Parchai

Ek zindagi Kai kahaniyan,
ek kahani kai parchaiyyan
Ek parchai hai Jo saath chalti hai
Mujhse Kai sawal poochti hai…
Jawab kaise dun, Mai nahi janti,
Har jawab mein ek nayi kahani,
Ek nayi zindagi…

Advertisements

19 Responses

  1. Bahut Khoob!

    Optimism, Philosophical.

    Kabhi Poocha karo zindgi se, Zindgi tumne kya diya hai
    Tumko Khabar hi nahin, Zindgi tumse kya liya hai!

  2. Dhoondhne se to kushiyon ka samaa milta hai
    Parchai sawal poochti hai to kya hua
    Socho, Jawab to nigaaho se bayan hota hai!

    Good one!

  3. Just in case… 🙂

    परछाई

    एक ज़िंदगी कई कहानियाँ,
    एक कहानी कई परछाईयाँ
    एक परछाई है जो साथ चलती है
    मुझसे कई सवाल पूछती है…
    जवाब कैसे दूं, मैं नही जानती,
    हर जवाब में एक नयी कहानी,
    एक नयी ज़िंदगी…

    Prologue…

    जवाब कैसे दूं, मैं नही जानती,
    हर जवाब में एक नयी कहानी,
    इस जवाब पर आगे एक सवाल है, मैं नहीं जानती
    इस कहानी में आगे क्या है, मैं नहीँ जानती

  4. कभी ड़रता हूँ कि यह कहानियों का सिलसिला रुकेगा न कभी,
    इन सवालों का चक्र थमेगा न कहीं।
    फिर एक आशा जागती है मन मे,
    और मैं खोजने लगता हूँ वह वक़्त,
    जब अंतर न रहे कोई –
    सवाल और जवाब मे,
    हकीकत और ख़्वाब मे,
    मुझ मे और परछाई मे,
    जिन्दगी और कहानी मे।

  5. Bahut hi badiya likha hai 🙂

    Kudos!!! Have a great weekend 🙂

  6. nice lines dude!!!

  7. wah, kya baat hain saahiba

  8. Great poem dude!

  9. good poem….loved it

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: